Thursday, October 11, 2018

तीन मजदूरों की प्रेरणादायक कहानी (Motivational Story in Hindi)


                      


      तीन मजदूरों की प्रेरणादायक कहानी (Motivational Story in Hindi)
      एक समय की बात है। एक राज्य में वहाँ के राजा द्वारा मन्दिर का निर्माण करवाया जा रहा था। 
      वहाँ पर तीन मजदूर पत्थर तोड़ने का काम कर रहे थे। तभी वहाँ एक घुड़सवार आता है। और 
      मजदूरों को देखकर रुक जाता है। 

      वह सबसे पहले मजदूर के पास जाता है ,और पूछता है " भाई ये क्या कर रहे हो "
      तो वह मजदूर गुस्से से घुड़सवार की ओर देखकर कहता है " देख नहीं रहे हो ,अपनी किस्मत 
      फोड़ रहा हूँ। माँ -बाप ने पढ़ाया लिखाया नहीं ,इसलिये आज यहाँ पत्थर तोड़ रहा हूँ। "
      इतना कहकर वह जोर -जोर से पत्थर तोड़ने लगता है। 
      
      वह व्यक्ति दुसरे मजदूर के पास जाता है। और पूछता है " भाई ये क्या कर रहे हो "
      वह मजदूर अपना काम रोककर कहता है " भाई मैं यहीं पास के गाँव में रहता हूँ , अपने परिवार 
      को चलाने के लिए मजदूरी करता हूँ। यहाँ से जो पैसा मिलता है ,उससे मेरा घर - परिवार  चल 
      जाता है। "
    
      अंत में वह घुड़सवार तीसरे मजदूर के पास जाता है। जो बहुत ख़ुश होकर , गुनगुनाते हुए  हथौड़े 
      पत्थर तोड़ रहा था। और अपने काम में बहुत मगन था। वह उससे भी वही सवाल पूछता है ,
      " भाई ये क्या कर रहे हो "
      
      तो वह मजदूर उस व्यक्ति की ओर देखकर मुस्कुराते हुए कहता है " भाई मैं एक बहुत बड़ा काम 
      कर रहा हूँ। क्या तुम्हें पता है ,जिन पत्थर को मैं तोड़ रहा हूँ उन पर नक्काशी की जाएगी। और 
      उन्हें इस विशाल  मन्दिर में लगाया जाएगा।  हजारो लोग यहाँ पर ईश्वर की प्रार्थना करने आयेगे। 
      यह सौभाग्य है ,की मुझे यहाँ पर काम मिल गया। मुझे इस बात पर गर्व है। 
      यह मन्दिर सदियों तक यहाँ रहेगा , मैं बड़े होने पर अपने बच्चों को जब बताऊँगा की इस मन्दिर 
      के निर्माण में मेरा भी छोटा सा योगदान है। तो वह कितना ख़ुश होंगे। "
      इतना कहकर वह मजदूर गुनगुनाते हुए , फिर पत्थर तोड़ने लगता है। 
  
      तीनों की बातें सुनकर घुड़सवार वहाँ से चल देता है। और सोचने लगता है की तीनों एक ही काम 
      कर रहे है। पर तीनों की सोच कितनी अलग है। 


     Moral of Stories  दोस्तों इस कहानी से हमें यह प्रेरणा मिलती है। की हजारों 
     लोग है ,जो मन मारकर ,जिन्दगी को बोझ समझकर अपना जीवन गुजार देते है। अपनी जिम्मेदारी 
     को बोझ समझते हैं। और यही गुण हमारे बच्चों में भी आ जाते हैं। और उनका जीवन भी हमारी 
     तरह नीरस हो जाता है। हम जीवन को किसी सज़ा की तरह काटते हैं। 
     
    या वास्तव में अपने जीवन का आनंद लेना चाहते हैं। दोस्तों इस पृथ्वी पर जन्म लेने वाले हर मनुष्य 
    को अपने जीवन- यापन के लिए ,कुछ ना कुछ काम काम तो करना ही पड़ता है। अब यह हमारे 
    ऊपर निर्भर करता है ,कि हम उस काम को खुश होकर करते हैं या दुखी होकर। 
      

    

    
        

3 comments:

  1. Though most lovers think that love is to express how much you love all the time, Tom and Jerry interprets love in a completely different way.  donate blood

    ReplyDelete
  2. I'm planar for your article writings and contents fortunately. Kenyan

    ReplyDelete
  3. Bioreactors are one of those technological advancements that Morris Esformes is very interest in. Morris Esformes

    ReplyDelete